full form of ATM

ATM का Full Form क्या है , यह कितने प्रकार का होता है ?

ATM का प्रयोग लगभग हम सभी लोग करते है। अगर कभी भी  पैसे निकालने हों या किसी को भेजने, तो हम सब लोग ATM का ज्यादातर इस्तेमाल करते हैं।  लेकिन क्या आप जानते हैं की ATM का Full Form क्या है? आइए  ATM Full Form और उसके प्रयोग के बारे विस्तार से जानते है।

ATM का Full Form क्या है 

ATM का Full FormAutomated Teller Machine है। ATM एक electro-mechanical machine है जिसका उपयोग बैंक खाते से वित्तीय लेनदेन करने के लिए किया जाता है। इन मशीनों का उपयोग personal bank accounts से पैसे निकालने के लिए किया जाता है। जिस तरह से बैंक शाखा में कैशियर, जिसे आधिकारिक तौर पर टेलर के रूप में जाना जाता है, नकदी को गिनता है और इसे ग्राहक को सौंपता है, उसी तरह मशीन आपके लिए यह काम करती है। इसलिए, इसे’Automated Teller Machine‘ या हिंदी में “स्वचालित टेलर मशीन” कहा जाता है। यह कार्ड धारक को अपने व्यक्तिगत बैंक खाते से बिना बैंक गए पैसे निकलाने की अनुमति देता है।

यह बैंकिंग प्रक्रिया को बहुत आसान बनाता है क्योंकि ये Automated Teller Machine स्वचालित हैं और लेनदेन के लिए cashier की कोई आवश्यकता नहीं है। ATM machine दो प्रकार की हो सकती है; एक बुनियादी कार्यों के साथ जहां आप नकदी निकाल सकते हैं और दूसरा एक और अधिक उन्नत कार्यों के साथ जहां आप नकदी जमा कर सकते हैं। अब एटीएम में cash dispensing के साथ-साथ बहुत सारे कार्य किये जाते है जिनमे से cheque deposit, Fund transfer, cash withdrawal and balance enquiry, new PIN generation, PIN change, mini statement, bill payments और mobile recharge आदि हैं। पहला एटीएम सन 1969 में Chemical bank द्वारा New York (USA) में पेश किया गया था।

ATM के अन्य Full Forms 

ATM के कई और भी फुल फॉर्म्स है जैसे-

  1. Air traffic Management. ( Aviation terminologies में )
  2. Asynchronous Transfer Mode
  3. Association of Teachers of Mathematics (यह Non-profit organization और पंजीकृत charity है UK में )
  4. Angkatan Tentera Malaysia (Malaysian Armed Forces)

ATM को दुनिया के अन्य हिस्सों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। कनाडा में, ATM को ABM (Automatic Banking Machine) के रूप में भी जाना जाता है। यद्यपि ABM का उपयोग कनाडा में किया जाता है, फिर भी एटीएम का उपयोग आमतौर पर किया जाता है। अन्य देशों में ATM कैश पॉइंट, कैश मशीन, मिनीबैंक और “Hole in the wall” शब्द का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

ATM के Basic Parts

ATM एक उपयोगकर्ता के अनुकूल मशीन है। यह लोगों को आसानी से पैसे निकालने या जमा करने में सक्षम बनाने के लिए विभिन्न इनपुट और आउटपुट डिवाइस पेश करता है। एटीएम के मूल input और  output devices नीचे दिए गए हैं-

Input Devices

Keypad: यह उपयोगकर्ता को मशीन द्वारा पूछी गई जानकारी जैसे व्यक्तिगत पहचान संख्या, नकदी की मात्रा, रसीद की आवश्यकता या नहीं, आदि प्रदान करने में मदद करता है। पिन नंबर सर्वर को एन्क्रिप्टेड रूप में भेजा जाता है।

Card Reader: यह इनपुट डिवाइस कार्ड के डेटा को पढ़ता है जो एटीएम कार्ड के पीछे की तरफ चुंबकीय पट्टी में संग्रहीत होता है। जब कार्ड स्वाइप किया जाता है या दिए गए स्थान में डाला जाता है तो कार्ड रीडर खाता विवरण कैप्चर करता है और इसे सर्वर को भेजता है। खाता विवरण और उपयोगकर्ता सर्वर से प्राप्त आदेशों के आधार पर नकद निकालने की अनुमति देता है।

Output Devices

Speaker:  यह ATM में audio feedback देने के लिए प्रदान किया जाता है।

Display Screen: यह स्क्रीन पर लेनदेन से संबंधित जानकारी प्रदर्शित करता है। यह अनुक्रम में एक-एक करके नकदी निकासी के चरणों को दर्शाता है। यह एक CRT स्क्रीन या एक LCD screen हो सकती है।

Cash Dispenser: यह एटीएम का मुख्य आउटपुट डिवाइस है क्योंकि यह कैश को dispense करता है। एटीएम में प्रदान किए गए उच्च परिशुद्धता सेंसर cash dispenser को उपयोगकर्ता द्वारा आवश्यक नकदी की सही मात्रा को निकालने की अनुमति देते हैं।

Receipt Printer: यह आपको उस पर मुद्रित लेनदेन के विवरण के साथ रसीद प्रदान करता है। यह आपको लेनदेन की तारीख और समय, निकासी राशि, शेष राशि आदि बताता है।

NEFT क्या है और इससे पैसा कैसे भेजा जा सकता है ?

ATM काम कैसे करता है

एटीएम का कामकाज शुरू करने के लिए आपको एटीएम मशीनों के अंदर plastic ATM cards डालने होंगे। कुछ मशीनों में आपको अपने कार्ड डालने पड़ते हैं, कुछ मशीनें Card Swap करने की अनुमति देती हैं। इन एटीएम कार्ड में एक चुंबकीय पट्टी के रूप में आपके खाते का विवरण और अन्य सुरक्षा जानकारी होती है। जब आप अपना Card drop /Swap करते हैं, तो मशीन को आपके खाते की जानकारी मिल जाती है और वह आपका पिन नंबर मांगता है। सफल प्रमाणीकरण के बाद, मशीन वित्तीय लेनदेन की अनुमति देगा।

ATM से आप क्या क्या कर सकते है ?

ATM में नकद वितरण के अपने मूल उपयोग के साथ-साथ बहुत सारी कार्यक्षमताएं हैं। जैसे:

  • Cash और cheque deposit
  • Fund transfer
  • Cash withdrawal और  balance enquiry
  • PIN change और mini statement
  • Bill payments और mobile recharge आदि।

ATM के बारे में महत्वपूर्ण / रोचक तथ्य

एटीएम के आविष्कारक: जॉन शेफर्ड बैरोन।

ATM Pin Number: जॉन शेफर्ड बैरोन ने एटीएम के लिए 6 अंकों का पिन नंबर रखने के बारे में सोचा, लेकिन उनकी पत्नी के लिए 6 अंकों का पिन याद रखना आसान नहीं था, इसलिए उन्होंने 4 अंकों का पिन नंबर तैयार करने का फैसला किया।

दुनिया का पहला फ्लोटिंग ATM: State Bank Of India (केरल)।

भारत में पहला ATM: 1987 में HSBC HSBC (Hongkong and Shanghai Banking Corporation) द्वारा स्थापित।

दुनिया का पहला ATM: यह 27 जून 1967 को लंदन के Barclays Bank में स्थापित किया गया था।

एटीएम का उपयोग करने वाला पहला व्यक्ति: प्रसिद्ध कॉमेडी अभिनेता रेग वर्नी ATM से नकदी निकालने वाले पहले व्यक्ति थे।

बिना अकाउंट के ATM: रोमानिया में कोई भी व्यक्ति बैंक खाते के बिना ATM से पैसे निकाल सकता है।

बायोमेट्रिक ATM: ब्राजील में Biometric ATM का उपयोग किया जाता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, उपयोगकर्ता को पैसे निकालने से पहले इन Biometric ATM पर अपनी उंगलियों को स्कैन करना आवश्यक है।

दुनिया का सबसे ऊंचा ATM: यह नाथू-ला में मुख्य रूप से सेना के व्यक्तियों के लिए स्थापित किया गया है। इसकी ऊंचाई समुद्र तल से 14,300 फीट है और यह यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा संचालित है।

ATM के बारे में और भी विस्तार से जानने के लिए आप विकिपीडिया का पोस्ट भी पढ़ सकते है